Sunday, May 12, 2013

माँ





















तुमने हमको ये जीवन दिया ,
अछाई और बुराई का नज़रिया दिया । 

तुम्हारी उँगली पकड़ कर चलना सीखा ,
ममता के आँचल का तुमने बसेरा दिया । 

चोट मुझे लगी तो याद तुम्हारी आई ,
दर्द मेरा देख कर आख़ें तुम्हारी भर आई । 

बिना कुछ कहे तुम पढ़ लेती मेरा मन ,
मेरे सपने बनते तुम्हारे भूल कर तुम्हारा मन । 

मेरी हर ख़ुशी में सबसे ज्यादा मुस्करायी तुम ,
मेरी हर जीत से विजयी हुई तुम । 

मेरे अस्तित्व का अभिन्न अंग हो तुम ,
मेरे जीवन का अभिमान हो तुम । 

निर्मल जल सा तुम्हारा ये निश्छल  प्यार ,
जिसके बिना ये दुनिया लगे इक अधूरा  संसार । 

माँ तू मेरा जीवन है ,
तुझपे अर्पण मेरा तन , मन , धन  है । 

भाग्यशाली हूँ मै जो पाया है तुम्हे ,
माँ बनना मेरी हर जन्म दिल की दुआ है ये । 

P.S. A gift from me to my mom. Happy Mother's Day mommy :)

4 comments:

  1. God is love!

    Catholic blogwalking

    http://emmanuel959180.blogspot.in/

    ReplyDelete
  2. awesome poem !! well expressed emotions. Happy Mothers Day !

    ReplyDelete
  3. Thank you mysay. Appreciate the kind words.

    ReplyDelete
  4. Hello Manisha, I read this poem aur aankh main aashu aa gaya...

    ReplyDelete